धातु का शोधन कैसे किया जाता है?

धातु का शोधन:

धातुओं के शोधन को अनेक विधियाँ है , ये विधियाँ अशुद्धियो तथा धातुओं की प्रकृति पर निर्भर करती है।

1. विधुत – अपघटनी विधि: इस विधि में अशुद्ध धातु का एनोड  तथा शुद्ध धातु का कैथोड बनाते हैं| उसी धातु के किसी घुलनशील लवण का विलयन विधुत अपघट्य के रूप में प्रयुक्त किया जाता है| विधुत अपघटन करने पर शुद्ध धातु कैथोड पर एकत्र हो जाती हैं, जबकि अशुद्धियाँ या तो घुल जाती है या एनोड के नीचे कीचड़ के रूप में गिर जाती हैं| कॉपर, सिल्वर, टिन, लेड, एलुमिनियम तथा क्रोमियम आदि धातुएँ इसी विधि से शुद्ध की जाती है|

2. द्रवण विधि: इस विधि में कम गलनांक की धातुओं (जैसे – टिन) को गलाकर ढालू तल पर बहने दिया जाता है जिससे अशुद्धियाँ पीछे रह जाती है तथा धातु बह कर पृथक हो जाती है|

3. आसवन विधि: वाष्पशील धातुओं (जैसे –Hg, Zn आदि) को आसवन द्वारा शोषित किया जाता है|

4. खर्परण विधि:  इसमें अशुद्ध धातु को वायु की उपस्थिति में गर्म किया जाता है जिससे धातु में उपस्थित अशुद्धियाँ आक्सीकृत होकर वाष्प के रूप में पृथक ह जाती है तथा शुद्ध धातु शेष रह जाती है| खर्परण विधि सिल्वर में उपस्थित लेड को पृथक करने में प्रयोग की जाती है|

5. बेसेमरीकरण: अशुद्ध धातु को एक भट्ठी में गगम किया जाता है तथा गलित द्रव्यमान पर वायु का तेज झोका छोड़ा जाता है| अशुद्धियाँ आक्सीकृत हो जाती हैं|  उदाहरणार्थ – पिग आयरन को एक प्रावर्तनी भट्ठी में लेकर वायु प्रवाहित करने पर अशुद्धियाँ आक्सीकृत हो जाती हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published.