हार्डी शुल्जे का नियम क्या है

अधिक मात्रा में वैद्युत-अपघट्य मिलाकर किसी कोलॉइडी विलयन की स्कन्दन (अवक्षेपण) क्रिया के लिए हार्डी-शुल्जे  ने निम्नलिखित दो नियम दिये, जिन्हें हार्डी-शुल्जे नियम कहते हैं |

हार्डी शुल्जे का नियम

1. कोलॉइडी विलयन के स्कन्दन के लिए मिलाये गये वैद्युत-अपघट्य के वे आयन सक्रिय होते हैं, जिनका आवेश कोलॉइडी कणों के आवेश के विपरीत होता है।

2. सॉल को स्कन्दित करने वाले आयन की शक्ति आयन की संयोजकता पर निर्भर होती है। समान संयोजकता वाले आयनों की स्कन्दित करने की शक्ति तथा मात्रा समान होती है। अधिक संयोजकता वाले आयनों की स्कन्दन क्षमता अधिक होती है, अर्थात् हार्डी-शुल्जे नियम के अनुसार, ‘आयनों की स्कन्दन शक्ति आयन की संयोजकता बढ़ने के साथ बढ़ती है।

यदि As2S3 सॉल में NaCl, BaCl2 तथा AlCl3 वैद्युत-अपघट्य अलग-अलग मिलाये जाएँ तो इनके Na+, Ba2+ तथा Al3+ आयन ऋण आवेशित As2S3 सॉल को अवक्षेपित कर देते हैं। हार्डी-शुल्जे के नियमानुसार, अधिक संयोजकता वाला आयन अधिक स्कन्दन करता है।

अत: Al3+ , Ba2+ तथा Na+आयनों की स्कन्दन क्षमता का क्रम निम्नलिखित होगा – Al3+ > Ba2+ > Na+ अत: इन आयनों से As pss के समान मात्रा में अवक्षेपण में NaCl, BaCl2 तथा AlCl3 की मात्रा का निम्नलिखित क्रम होगा – NaCl > BaCl2 > AlCl3

credit:Shiv Coaching Classes India

Leave a Comment

Your email address will not be published.