हाइड्राइड के गुण, डाई ऑक्सीजन या O2

हाइड्रोजन के प्रति क्रियाशीलता या 16 वर्ग के हाइड्राइड :


16 वर्ग के तत्व हाइड्रोजन से क्रिया करके H2E प्रकारके यौगिक बनाते हैं जैसे H2O , H2S , H2Se , H2Te आदि

हाइड्राइड के गुण:

क्वथनांक :
जल के अणुओं के मध्य अन्तरा अणुक हाइड्रोजन बंध होता है अणुओं के मध्य संगुणन होती है , अतः H2O द्रव है द्रव होने के कारण इसका क्वथनांक अधिक होता है |


H2S के अणुओ के मध्य दुर्बल वांडरवाल बल होते हैं अतः यह गैस है , गैस होने के कारण इसका क्वथनांक कम होता है
16 वर्ग के हाइड्राइड के क्वथनांक का बढ़ता क्रम
H2S < H2Se < H2Te < H2O

अपचायक गुण :
हाइड्रोजन त्यागने के गुण को अपचायक गुण कहते हैं , E-H bond की बन्ध लंबाई बढ़ने पर हाइड्रोजन त्यागने की प्रवृति बढ़ती है अतः अपचायक गुण बढ़ते हैं |
अपचायक का बढ़ता गरम
H2O < H2S < H2Se < H2Te

तापीय स्थायित्व :
E-H बन्ध की बन्ध लंबाई बढ़ने पर बन्ध वियोजन ऊर्जा कम होती जाती है जिससे तापीय स्थायित्व कम होता जाता है
अतः तापीय स्थायित्व का घटता हुआ क्रम
H2O > H2S > H2Se > H2Se

अम्लीय गुण :
H+ आयन त्यागने के गुण को अम्लीय गुण कहते हैं , बंध लंबाई बढ़ने पर H+ आयन त्यागने का गुण बढ़ता जाता है अतः अम्लीय गुण बढ़ते जाते हैं
H2O < H2S < H2Se < H2Te

डाई ऑक्सीजन (Die oxygen) या O2 :


बनाने की प्रयोगशाला विधि :
2KClO3 → 2KCl + 3O2

गुण :

यह रंगहीन , गंधहीन , स्वादहीन गैस है
यह धातु , अधातु व यौगिकों से क्रिया करके ऑक्साइड बनाती है |


2Ca + O2 → 2CaO
4Al + 3O2 → 2Al2O3
P4 + 5O2 → 2P2O5
S + O2 → SO2
CH4 + 2O2 → CO2 + H2O
C2H4 + 3O2 → 2CO2 + 2H2O

Leave a Comment

Your email address will not be published.