Newton Ka Teesra Niyam

न्यूटन का तृतीय नियम – Newton Ka Teesra Niyam

Newton Ka Teesra Niyam:न्यूटन का तीसरा नियम परीक्षा के दृष्टिकोण से एक महत्वपूर्ण टॉपिक है. अक्सर न्यूटन का  तीसरा नियम से सम्बंधित प्रश्न जैसे कि न्यूटन का तीसरा नियम के उदाहरण आदि  प्रैक्टिकल परीक्षा के दौरान प्रश्न पूछे जाते है. अतः परीक्षार्थियों को न्यूटन का तीसरा नियम से जुड़े सभी सम्बंधित प्रश्नों का भलीभांति तैयार कर लेना चाहिए.

Newton Ka Teesra Niyam

न्यूटन का गति का तृतीय नियम (क्रिया-प्रतिक्रिया नियम)

न्यूटन के गति के तृतीय नियम के अनुसार, प्रत्येक क्रिया के बराबर एवं विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है। गति के तृतीय नियम को क्रिया-प्रतिक्रिया नियम भी कहते हैं।

उदाहरण

  • गति के तृतीय नियम को ऐसे समझते हैं कि आप किसी टेबल पर हाथ रखकर खड़े हैं तो जितना बल आपका हाथ टेबल पर बल लगा रहा है उतना ही बल टेबल आपके हाथ पर लगा रही है। आपने देखा होगा कि कमजोर छत पर ज्यादा बल अर्थात् कई व्यक्तियों के बैठने पर वह छत टूट जाती है अतः वह छत प्रतिक्रिया बल उतना नहीं लगा पाती है जितना व्यक्ति उस पर क्रिया बल लगा देते हैं।
  • कोई बन्दुक चालक गोली चलता है तो उसे तीब्र झटका लगता है ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि जब बंदूक से गोली चलती है तो इसमे लगा बारूद में बिस्फोट होता है तो गोली तेजी से आगे बढती है और यह जितने बल से आगे बढती है बन्दुक पर उतना ही बिपरीत बल लगता है
  • बन्दुक के द्वारा गोली पर एक क्रिया बल लगता है जिसके परिणाम स्वरुप गोली बन्दुक चालक के ऊपर एक प्रतिक्रिया बल लगाती है और बन्दुक चालक को एक तीब्र झटका लगता है
  • जब व्यक्ति कुए से पानी से भरी बाल्टी को उपर खींचता है तथा जब अचानक से रस्सी टूट जाती है तो रस्सी खीचने बाला व्यक्ति पीछे की ओर गिर पड़ता है क्योकि जब बह पानी से भरी हुयी बाल्टी को खीच रहा होता है तो व्यक्ति द्वारा रस्सी पर बाल्टी के भार के बराबर परिमाण का एक क्रिया बल रस्सी पर कार्यशील रहता है तथा बाल्टी के भार के कारण रस्सी में उत्पन्न तनाब बल जो की एक प्रतिक्रिया बल का कार्य करता है एक साथ उत्पन्न होते है यह भी न्यूटन के गति के तीसरे नियम का अच्छा example बताता है जब रस्सी टूट जाती है तो लगने बाला प्रतिक्रियाशील बल का प्रभाव समाप्त हो जाता है जबकि व्यक्ति के द्वारा बाल्टी को उपर खीचने के लिए लगातार क्रिया बल लगाया जाता है रस्सी टूटने पर व्यक्ति को मिलने वाला प्रतिक्रिया बल का प्रभाव समाप्त हो जाता है जिस से बह पीछे की ओर गिर जाता है
  • न्यूटन के तीसरे नियम को और विस्तार से समझने के लिए हम रोकेट के उडान भरने के उदहारण को लेते है जब राकेट को उडाया जाता है तो उसमे उत्पन्न होने वाली ज्वलनशील गैसे तेज वेग से बाहर निकलती हैजो की एक क्रिया बल पैदा करती है जिसके प्रितिक्रिया के फलस्वरूप राकेट आगे को गति करता है ।
  • आदमी जब नदी के किनारे नाव से बहार कुदता है तो नाव पीछे की ओर जाती हैनाव चलाते time नाव वाला पतवारो से पानी को पीछे की ओर धकेलता है
  • तैराक पानी में आगे बढ़ने के लिए अपने हाथ पैरों से पानी पीछे की ओर धकेलता है
  • जमीन पर चलते समय हम अपने पैरो से पीछे की ओर बल लगते है जिस से हम आगे की ओर चल पाते है
credit:Super Concept Classes

आर्टिकल में आपने न्यूटन के गति के तीसरे नियम को पढ़ा। हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.