सुहागा का रासायनिक सूत्र

Suhaga Ka Rasayanik Sutra, Naam, फायदे

सुहागा क्या होता है?

बोरेक्स को आयुर्वेद में टंकण भस्म के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा हिंदी में इसे सुहागा के नाम से भी जाना जाता है। बोरेक्स का रासायनिक नाम सोडियम टेट्राबोरेट (Sodium tetraborate) है। इसमें सूजन को कम करने वाले, कसैले, रोगाणुरोधी, बलगम को निकालने वाले गुण पाए जाते हैं।

सुहागा का रासायनिक सूत्र

Na2B4O7.10H2O

सुहागा का रासायनिक नाम

Sodium tetraborate decahydrate

Also check: ब्लीचिंग पाउडर या विरंजक चूर्ण का रासायनिक नाम

बोरेक्स के फायदे

  1. कान में 2-3 बार एक दिन में लगभग ¼ ग्राम बोरेक्स को कान में डालें। इसका उपयोग कान के रोगों से मुक्ति दिलाता है।
  2. 100 ग्राम सरसों के बीज और 30 ग्राम भुना हुआ बोरेक्स पीस लें और छान लें। 7 दिनों के लिए दिन में दो बार नियमित रूप से आधा चम्मच पाउडर का सेवन करें। इसका उपयोग बढ़े हुए प्लीहा को सामान्य बना देता है। यह भूख और शारीरिक शक्ति भी बढ़ाता है।
  3. पानी में बोरक्स और एलम को मिलाएं। इस पानी के साथ आँखें धोएं और आंखों में कुछ बूंदों को डालें। इसका उपयोग शीघ्र राहत प्रदान करता है।
  4. गुड़ को 6 ग्राम में बोरक्स में मिलाएं। इस मिश्रण की 3 गोलियां बनायें। रोज सुबह 3 दिन के लिए गुनगुने घी के साथ एक गोली लें। इसका उपयोग बढ़े हुए अंडकोष (testicles) को सामान्य करता है।
  5. फुलदार बोरक्स और चीनी-कैंडी को एक साथ पीसकर बारीक पाउडर बनायें। इस पाउडर के साथ नियमित रूप से ब्रशिंग से दाँत साफ और मजबूत होते हैं।

सुहागा के नुकसान

  1. इसका प्रेगनेंसी में उपयोग नहीं करना चाहिए। (और पढ़ें – प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन में करे और टेस्ट ट्यूब बेबी कैसे होता है)
  2. इसके अधिक सेवन से मासिक स्त्राव अधिक हो सकता है।
  3. इसका सेवन 500 mg से अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।
  4. यह संभावित रूप से विषाक्त नहीं है और इसके ना ही कोई तीव्र विषाक्तता वाले लक्षण दिखाई देते हैं। अगर इसे चिकित्सीय खुराक के अनुसार लिया जाएँ तो सुरक्षित और अच्छी तरह से सहन किया जाता है।
  5. कुछ मामलों में, अल्पावधि उपयोग पेट में उत्तेजना या जलन पैदा कर सकती है।

FAQs

  • सुहागा का क्या उपयोग है?

    यह अग्निरोधी के रूप में, फफूँदनाशी के रूप में, कीटनाशक के रूप में और धातुकर्म में फ्लक्स (flux) के रूप में, व्यंजनों में रंजक के रूप में, तथा टांकण के अन्य यौगिकों के निर्माण के लिये प्रयोग किया जाता है। यह छींट छापने, सोना गलाने तथा ओषधि के काम में आता है। इसे घाव पर छिड़कने से घाव भर जाता है।

  • सुहागा कितने प्रकार के होते हैं?

    सुहागा/बोरेसिक/बोरेक्स/सोहागा/पोंगराम/वेंकरम/वेलीगरम/टिंकल/तांकाना खरारा

  • सुहागा का सूत्र क्या होता है?

    Na₂[B₄O₅(OH)₄]·8H₂O

  • सुहागा खांसी की दवा कैसे बनाएं?

    काली मिर्च और अंजीर से बना काढ़ा पिएं। सुहागे को फुलाकर शहद के साथ लें। इससे कफ निकलने के साथ खांसी में रिलीफ मिलेगा। रोजाना एक से दो चम्मच वासा उल्लेह और हरीप्रभा खंड का काढ़ा भी लिया जा सकता है।

  • बोरेक्स में बोरान की मात्रा कितनी होती है?

    बोरिक अम्‍ल (17% B), के अलावा, बोरेक्‍स (11% B) या ‘सोलुबोर’ (20% B) को भी इस प्रयोजन के लिए छिड़काव मिश्रण तैयार करने हेतु उपयोग किया जा सकता है। छिड़काव मिश्रण में 1 प्रतिशत की दर से योगज पदार्थ के रूप में यूरिया मिलाए जाने से पत्तियों द्वारा बोरोन का अवशोषण बढ़ जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.